पिंपल्स पर अनचाहे बाल और थायराइड की बीमारी की ओर इशारा, जानिए अन्य लक्षण

थायराइड के खतरे को दूर करने के लिए संतुलित आहार लें जिसमें आयोडीन की पर्याप्त मात्रा हो। नियमित व्यायाम और डॉक्टरों की सलाह भी आवश्यक है

थायरॉयड एक तितली के आकार का ग्रंथि है जो गर्दन के निचले हिस्से में स्थित है। यह अंतःस्रावी तंत्र का हिस्सा है, इसका मुख्य कार्य चयापचय को विनियमित करना है। यह ग्रंथि T3 और T4 हार्मोन का उत्पादन करती है जो हृदय, मस्तिष्क, गुर्दे, यकृत की दक्षता में सुधार करती है। इससे शरीर का विकास अच्छी तरह से हो पाता है। लेकिन अगर कोई व्यक्ति थायरॉयड ग्रंथि के अधिक या कम मात्रा में इन हार्मोनों का उत्पादन करना शुरू कर देता है, तो उसे थायरॉयड विकार हो सकते हैं।

वैसे, यह बीमारी किसी को भी हो सकती है, महिलाओं या पुरुषों को। लेकिन स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि गर्भवती महिलाओं में टाइप 1 मधुमेह के अलावा, इस बीमारी के सबसे अधिक मामले हैं। महिलाओं में हार्मोनल परिवर्तन या आयोडीन की कमी होने की संभावना अधिक होती है, इसलिए उन्हें थायरॉयड रोग का खतरा अधिक होता है। आइये जानते हैं इस बीमारी के बारे में विस्तार से -

क्या है हाइपो थायराइडिज्म: यह एक ऐसी स्थिति है जब शरीर थायराइड हार्मोन को पर्याप्त मात्रा में रिलीज नहीं कर पाता है। यह शरीर के सभी कामकाज को धीमा कर देता है। आमतौर पर मासिक धर्म के लक्षण, कब्ज, हृदय गति कम होना, महिलाओं में वजन बढ़ना और थकान इसके लक्षण हैं। हालाँकि, इसके विभिन्न लक्षण हर श्रेणी की महिलाओं में देखे जा सकते हैं। जानें कि हाइपर थायराइडिज्म के रोगियों के शरीर में बदलाव वयस्क महिलाओं में कैसे होते हैं:

यदि इन लक्षणों को शुरू में नजरअंदाज कर दिया जाता है, तो प्रजनन उम्र की महिलाओं में बांझपन की शिकायत हो सकती है। शरीर में थायराइड हार्मोन के स्तर में कमी, यानी हाइपोथायरायडिज्म, ओव्यूलेशन की प्रक्रिया को बाधित करता है, जिससे महिलाएं बांझ हो जाती हैं। गर्भवती महिलाओं में लक्षण क्या हैं? बड़ी उम्र की महिलाओं में: इस उम्र की महिलाओं को हाइपोथायरायडिज्म के कारण उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप और अवसाद की शिकायत हो सकती है। वहीं, जो महिलाएं पहले से ही थायरॉइड से पीड़ित हैं, उनमें जल्दी रजोनिवृत्ति का खतरा अधिक होता है।