अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून पर मनाया जाता है: स्वस्थ रहने के लिए अपनाएं योगिक जीवन शैली

Jun 07, 2021

स्वस्थ और स्वस्थ रहने के लिए सुबह से शाम तक आपकी जीवनशैली भी बहुत मायने रखती है। अगर सुबह से शाम तक की सारी गतिविधियाँ योग के अनुसार होंगी तो आप हमेशा फिट और स्वस्थ रहेंगे।

सुप्रभात प्रारंभ
योग के अनुसार ब्रह्म मुहूर्त में सुबह उठना फायदेमंद होता है, लेकिन 5.30 बजे तक भी उठ जाएं तो ठीक रहेगा।
उठने के बाद 2 गिलास पानी पिएं। रात को तांबे के बर्तन में पानी भरकर रख दें और सुबह उठने के बाद इसका सेवन करें। खड़े रहकर पानी नहीं पीना चाहिए। बैठे-बैठे पीना, बैठे-बैठे पीना और भी ज्यादा फायदेमंद होता है। अगर आपका वजन ज्यादा है तो गर्म पानी पिएं।
पानी पीने के बाद फ्रेश हो जाएं और एक घंटे तक योग और प्राणायाम करें। आप चाहें तो मॉर्निंग वॉक पर भी जा सकते हैं।
नहा धोकर तैयार हो जाओ। भगवान का ध्यान करें और अपने सफल दिन की सही शुरुआत के लिए प्रार्थना करें।
शाम 7.30-8 बजे तक नाश्ता कर लें। नाश्ते में फल, पोहा, उपमा, दलिया, ओट्स, दूध जैसी पौष्टिक चीजों को शामिल करें।
इसके बाद दिन भर के कामों की लिस्ट बनाएं। जैसे ही आपके कार्य समाप्त हो जाते हैं, उन्हें चिह्नित करें और शेष कार्यों को अगले दिन की सूची में जोड़ें।

दोपहर ठीक करो
अगर आप ऑफिस में काम करते हैं तो लंच टाइम में खाना खाएं और खाने में सलाद जरूर शामिल करें।
खाने को अच्छी तरह चबाकर खाएं और खाना खाने के आधे घंटे बाद ही पानी पिएं। भोजन करते समय भी पानी नहीं पीना चाहिए।
ऑफिस की सीट पर लगातार दो घंटे से ज्यादा न बैठें। ऑफिस के छोटे-छोटे काम जैसे पानी की बोतलें भरना, चाय-कॉफी लेना, प्रिंटर से प्रिंट आउट लेना आदि खुद ही करें।
अगर खाने के बाद आपके पास खाली समय है तो थोड़ा टहल लें।
अगर आप घर पर हैं तो बाकी काम पूरा करने के बाद थोड़ा आराम करें। खाना खाने के बाद आप अपनी पसंद का कोई काम कर सकते हैं। काम खत्म करने के बाद रात का खाना तैयार करें।

आपकी शाम अच्छी बीते
अगर आप ऑफिस में हैं तो करीब 4 बजे सीट पर बैठकर बॉडी स्ट्रेचिंग करें। इससे आप रिलैक्स और फ्रेश फील करेंगे।
शाम की भूख मिटाने के लिए भुने चने, मूंगफली, कुरकुरे, भेल, फल, चाय-बिस्किट आदि लें। पकौड़े और वड़ा-समोसे से दूर रहें।
दिन भर में कम से कम 10-12 गिलास पानी पिएं।
ऑफिस से लौटने के बाद कुछ देर आराम करें।
सुबह 7 बजे थोड़ा सा ध्यान करना आपके लिए फायदेमंद साबित होगा। 20 मिनट ध्यान करें। दिन भर की सारी थकान, तनाव और नकारात्मकता दूर हो जाएगी।

ताकि झुंझलाहट न हो
रात 8 बजे तक खाना खा लें। रात का खाना बहुत हल्का होना चाहिए।
टीवी देखते या बात करते हुए रात का खाना न खाएं। खाना खाते समय बात न करें सिर्फ खाने पर ध्यान दें इससे खाना जल्दी और अच्छे से पचता है। ज्यादा खाने से बचें।
रात के खाने और सोने के समय में कम से कम 2 घंटे का अंतर होना चाहिए और थोड़ी देर बाद 15 मिनट तक हल्की सैर करनी चाहिए।
खाने के बाद जरूरी काम पूरा करें। जब तक सोने का समय है, आप बच्चों का होमवर्क देख सकते हैं, उनके साथ खेल सकते हैं या चैट भी कर सकते हैं।
संगीत सुनने या कोई अच्छी किताब पढ़ने के लिए खुद के लिए कुछ समय निकालें।
रात को 10 से 10.30 बजे तक सोएं। सोने से पहले पूरे दिन का विश्लेषण करें। यदि कोई कार्य अधूरा रह गया है तो उसे अगले दिन की सूची में शामिल करें।
रोजाना 6-8 घंटे सोएं। कहा जाता है कि सोने के लिए रात 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक का समय सबसे महत्वपूर्ण होता है। ये चार घंटे की नींद आठ घंटे के आराम के बराबर है। ऐसे में देर से सोने का मतलब नींद की गुणवत्ता से समझौता करना है। और हां, दिन में सोने से बचें।