यदि आपका पार्टनर गुस्सैल स्वभाव का है तो उसे हैंडल कैसे करें, ये हैं कुछ आसान रिलेशनशिप टिप्स

May 20, 2021

कभी-कभी गुस्सा आना सामान्य बात है, लेकिन अगर गुस्सा आपके पार्टनर का स्वभाव बन जाए तो इसका असर रिश्ते पर भी पड़ने लगता है। ऐसे पार्टनर को संभालने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

यह जानने की कोशिश करें कि आपके साथी को क्या गुस्सा आता है। जाहिर है, बिना वजह कोई नहीं भड़कता। उन चीजों और स्थितियों को देखें और उनका आकलन करें, ताकि आप जान सकें कि उन्हें कब और क्यों गुस्सा आता है। कोशिश करें कि ऐसी स्थितियां न हों, जिससे आपका पार्टनर नाराज हो जाए।

हो सकता है कि आपकी कुछ आदतें और व्यवहार आपके साथी को पसंद न आए और वे बार-बार उससे नाराज हों। बेशक, उन आदतों और व्यवहार को न बदलें, लेकिन कोशिश करें कि पार्टनर के सामने वो चीजें या चीजें न करें, जिससे उन्हें गुस्सा आए।

उनकी बात सुनें, भले ही वे गुस्से में खुद को व्यक्त करें, उनकी बातों को नजरअंदाज न करें। बहुत से लोग इसी वजह से डिप्रेशन में रहते हैं कि उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। यदि आप उसकी मानसिक स्थिति को समझें और उसके क्रोधित होने पर उसकी बात सुनें, तो हो सकता है कि उसका क्रोध धीरे-धीरे कम हो जाए।


ऐसे लोगों को हमेशा दूसरों की कमियां गिनने की आदत होती है। ऐसे लोगों की आदत होती है कि वे दूसरों पर आरोप लगाते हैं और उल्लंघन करते हैं। बेहतर होगा कि आप उनकी बेवजह की बातों का कोई जवाब न दें।

अनावश्यक चर्चा में न पड़ें। गुस्से में हों तो किसी तरह की चर्चा करना चाहें तो उस चर्चा का हिस्सा न बनें। यह आपको उस पूरी स्थिति से अलग कर देगा।


उनसे बात करें। उन्हें उनके बुरे व्यवहार के बारे में हतोत्साहित करें। उन्हें बताएं कि उनका व्यवहार आपको कितना आहत करता है। इससे उन्हें अपने बुरे व्यवहार को समझने में भी मदद मिलेगी।


अगर कोई गलती है, तो उसे गलती मानें। इससे आपके पार्टनर का गुस्सा कम होगा। जब भी कोई गलती हो तो अपने अहंकार को एक तरफ रख लें। इससे मामला तुरंत बच जाएगा।

पार्टनर को जब भी गुस्सा आए तो रिएक्ट करने या चुप कराने की कोशिश करने के बजाय उसे थोड़ा वक्त दें ताकि वह खुद को शांत कर सके। बीच-बीच में बात करना या प्रतिक्रिया देना ही बात को बढ़ा देगा।


वह जो कुछ भी कहना चाहता है, उसे कहने का मौका दें, उसकी बातों को ध्यान से सुनें। यदि वे अपनी राय को महत्व देते हैं, तो हो सकता है कि वे नाराज न हों।


धैर्य न खोएं। जब पार्टनर गुस्से में हो तो उसे रोकना या बीच में रोकना मतलब उसका गुस्सा बढ़ाना होगा। बेहतर होगा कि आप अपना धैर्य न खोएं। हो सके तो इससे दूर हट जाएं या दूसरे कमरे में चले जाएं।