क्या ये 5 हार्मोन हैं आपके बढ़ते वजन का कारण

May 19, 2021

स्वस्थ और फिट रहने के लिए हार्मोन संतुलित होना चाहिए। भूख, नींद, सेक्स लाइफ से लेकर मूड, हॉर्मोन्स प्रभावित होते हैं। इतना ही नहीं अगर आपका वजन लगातार बढ़ रहा है या कई कोशिशों के बाद भी कम नहीं हो रहा है। तो इसके लिए कुछ हार्मोन भी जिम्मेदार हो सकते हैं।

हार्मोन में असंतुलन के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से प्रमुख कारण यौवन, गर्भावस्था और कुछ दवाओं का सेवन हैं। यदि हार्मोन का असंतुलन शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, तो इससे वजन बढ़ने की समस्या भी हो सकती है। इतना ही नहीं अगर आपके हार्मोन्स गड़बड़ा गए हैं तो आपके लिए भी वेट लॉस इतना आसान नहीं होगा। इसलिए वजन बढ़ाने वाले हार्मोन को नियंत्रण में रखना जरूरी है।
1. थायराइड हार्मोन
थायरॉयड ग्रंथि का काम T3, T4 और कैल्सीटोनिन हार्मोन का उत्पादन करना है। ये हार्मोन शरीर के मेटाबॉलिज्म को बनाए रखते हैं। यदि शरीर में इन हार्मोनों का स्राव कम होता है, तो आप हाइपोथायरायडिज्म के शिकार हो सकते हैं, जिसका सीधा संबंध वजन बढ़ने से होता है।
क्या करें?
थायराइड की जांच नियमित करें। एक डॉक्टर से परामर्श।
कच्ची सब्जियां खाने से बचें। पकी हुई सब्जियां खाएं।
आयोडीनयुक्त नमक का प्रयोग करें।
अपने आहार में जिंक को शामिल करें। सीप और कद्दू के बीज जिंक के अच्छे स्रोत हैं।
मछली का तेल खाएं। विटामिन डी सप्लीमेंट लें।
अगर डॉक्टर ने थायराइड की कोई दवा दी है तो उसका नियमित सेवन करें।

2. इंसुलिन
इंसुलिन अग्न्याशय द्वारा स्रावित एक हार्मोन है, जिसका कार्य ग्लूकोज को कोशिकाओं तक पहुंचाना है। इसी ग्लूकोज से हमें ऊर्जा मिलती है और हम सारे काम कर पाते हैं। जब शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम हो जाती है तो ग्लूकोज शरीर के अन्य अंगों तक नहीं पहुंच पाता है, जिससे शरीर में काम करने की ऊर्जा नहीं बचती है। इससे शरीर का ब्लड शुगर लेवल भी प्रभावित होता है, जिससे वजन बढ़ने लगता है।
क्या करें?
ब्लड शुगर लेवल चेक करते रहें। एक डॉक्टर से परामर्श।
बैलेंस डाइट लें। लो कार्ब डाइट लें।
तनाव से दूर रहें।
अधिक से अधिक फल और सब्जियां खाएं।
शराब और सिगरेट से परहेज करें।
देर रात तक नाश्ता करने से बचें।
योग-व्यायाम इंसुलिन को नियंत्रित करने में मदद करता है।
आठ घंटे की नींद लें। कम नींद हार्मोन के संतुलन को बिगाड़ सकती है, खासकर इसका सीधा असर इंसुलिन के स्तर पर पड़ता है।

3. एस्ट्रोजन
एस्ट्रोजन का उच्च या निम्न दोनों स्तर वजन बढ़ने का कारण बन सकता है। डिम्बग्रंथि की कोशिकाओं द्वारा एस्ट्रोजन की उच्च मात्रा का उत्पादन करना या ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना जो एस्ट्रोजन से भरपूर हों, एस्ट्रोजन के स्तर को बढ़ा सकते हैं। दरअसल स्वस्थ शरीर इंसुलिन का उचित मात्रा में उत्पादन करता है, जिससे ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। लेकिन शरीर में एस्ट्रोजन का उच्च स्तर ऐसी कोशिकाओं का निर्माण करता है, जो इंसुलिन का उत्पादन करती हैं। इससे हमारा शरीर इंसुलिन प्रतिरोधी बन जाता है, जिससे उच्च ग्लूकोज स्तर और वजन बढ़ जाता है। जबकि कम एस्ट्रोजन की समस्या ज्यादातर बढ़ती उम्र के साथ होती है, क्योंकि बढ़ती उम्र के साथ एस्ट्रोजन का उत्पादन कम हो जाता है। एस्ट्रोजन का उत्पादन करने के लिए शरीर फैटी कोशिकाओं का उपयोग करता है और पूरी ऊर्जा को वसा में परिवर्तित करता है, जिससे वजन बढ़ता है।
क्या करें?
प्रोसेस्ड मीट खाने से बचें। मांस स्थानीय बाजार से ही खरीदें।
शराब से परहेज करें।
नियमित योगाभ्यास करें। तनावमुक्त रहने का प्रयास करें।
आहार में अधिक साबुत अनाज, ताजी सब्जियां और फल शामिल करें।
एक डॉक्टर से परामर्श। उन्हें बताएं कि आपने एस्ट्रोजन स्तर को बनाए रखने के लिए जीवनशैली में क्या बदलाव किए हैं, ताकि वे आपको सही सलाह दे सकें।

4. टेस्टोस्टेरॉन
टेस्टोस्टेरोन को आमतौर पर एक पुरुष हार्मोन माना जाता है, लेकिन यह महिलाओं के शरीर में भी स्रावित होता है। टेस्टोस्टेरोन यौन इच्छा को बनाए रखता है, वसा जलता है और हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत करता है। लेकिन बढ़ती उम्र, तनाव आदि के कारण कई बार टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होने लगता है, जिससे मोटापा बढ़ जाता है।
क्या करें?
डॉक्टर से सलाह लेकर टेस्टोस्टेरॉन लेवल की जांच कराएं।
आहार में उच्च फाइबर वाली चीजें जैसे अलसी, कद्दू के बीज, साबुत अनाज आदि शामिल करें। इससे वजन घटाने में भी मदद मिलेगी।
नियमित व्यायाम करें। यह टेस्टोस्टेरोन के स्तर में सुधार करेगा और चयापचय को बढ़ावा देगा।
विटामिन सी, प्रोबायोटिक्स और मैग्नीशियम सप्लीमेंट्स लें।
शराब से परहेज करें।
जिंक और प्रोटीन सप्लीमेंट लें। इससे आपका टेस्टोस्टेरोन लेवल बेहतर होगा।

5. प्रोजेस्टेरॉन
प्रोजेस्टेरोन शरीर के सुचारू कामकाज के लिए आवश्यक है। लेकिन कई बार तनाव, मेनोपॉज या गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से वजन का स्तर बढ़ जाता है।
क्या करें?
अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लें।
अगर गर्भनिरोधक गोलियां ले रहे हैं तो अपने डॉक्टर से पूछें कि आपके लिए कौन सी गोली बेहतर रहेगी।
प्रोसेस्ड मीट का सेवन न करें।
नियमित व्यायाम करें। प्राणायाम भी फायदेमंद साबित होगा।
तनाव से बचें। यदि आवश्यक हो, तो तनाव प्रबंधन चिकित्सा की सहायता लें।