इन लक्षणों को देखकर निर्धारित करें कि आपके ऑफिस का माहौल आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए खतरा है या नहीं।

आपके ऑफिस के माहौल का आपके काम-काज और प्रोडक्टिविटी पर प्रभाव पड़ सकता है। इसके अलावा, यदि कार्यालय का ऑफिस अच्छा नहीं है, तो यह आपके मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।
एक टॉक्सिक वर्क एनवायरमेंट वह है जिसमें सहकर्मियों या फर्म द्वारा उत्पन्न नकारात्मक वातावरण के कारण लोग अपने व्यवसायों में काम करने या आगे बढ़ने के लिए संघर्ष करते हैं। इसका असर आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ सकता है। तो, आपको कैसे पता चलेगा कि ऐसी स्थिति में आपके कार्यालय का माहौल भी उतना ही टॉक्सिक है?
यहां हैं टॉक्सिक वर्क एनवायरमेंट के संकेत
1 कर्मचारियों का बीमार होना:
कर्मचारी का जलना, थकान और बीमारी सभी टॉक्सिक वर्क एनवायरमेंट के लक्षण हैं। यह उच्च स्तर के तनाव से उत्पन्न होता है और हमारे शरीर पर कहर बरपाती है। जब कर्मचारी बीमार हो जाते हैं और अपनी नौकरी से असंतुष्ट होते हैं, तो यह एक टॉक्सिक वर्कप्लेस का संकेत है।  

2 बॉस से सहमत
आपके बॉस आपसे अपेक्षा करता है कि आप हमेशा उनसे सहमत हों और उन्हें बताएं कि वे सही हैं। उन्हें ऐसा महसूस कराएं कि वे नियमों से ऊपर हैं। वे उम्मीद करते हैं कि हर कोई इसका विरोध करने के लिए कुछ नहीं करते हुए अपनी बात का बचाव करेगा।  

3 काम करने के लिए इच्छा की कमी
कार्यालय के चारों ओर एक नज़र डालें। क्या कोई वहां काम करके खुश है? क्या कभी कोई खुश होता है? यदि कर्मचारी आमतौर पर अपनी नौकरी से असंतुष्ट होते हैं, तो यह एक टॉक्सिक वर्कप्लेस का संकेत है।  

4 संचार की कमी या खराब संचार
आपको और अन्य लोगों को अपने कर्तव्यों को करने के लिए आवश्यक जानकारी प्राप्त नहीं होती है। आप बहुत प्रयास करते हैं लेकिन बहुत कम सकारात्मक टिप्पणियां या प्रशंसा प्राप्त करते हैं।  न कोई अप्रेसल न कोई प्रश्नसा और हर बात पर नौकरी से निकालने की धम्की। ये सभी टॉक्सिक वर्क एनवायरमेंट के लक्षण हैं।  

5 अफवाहें और गपशप
क्या यह सच है कि आपके कार्यालय में हर कोई एक दूसरे की पीठ पीछे बुराई कर रहा है? क्या कोई किसी से अच्छा तरह नहीं बोलता? साथ ही, लोग आपके बारे में बिना वजह बाते बना रहे हैं अफवाह फैला रहे हैं? तो यह एक टॉक्सिक वर्कप्लेस का संकेत है।
ऊपर दी गई सूची के अलावा, आप अपने मन की सुने। जैसे भी आप ठीक लगे, वैसे ही करे। फिर इन टिप्स को फॉलो करें

  • उन लोगों को खोजें जिनका स्वभाव आपकी तरह हो ।
  • उन लोगों से दोस्ती करें जो आपके जैसा ही महसूस करते हैं। 
  • काम के बाद तनाव दूर करने के लिए कुछ करें। जिम जाएं, घर का कुछ काम करें या कोई नया हुनर सीखें। इससे आपका मन ठीक रहेगा।
  • खुद को व्यस्त रखें और हो सके तो रोजगार में बदलाव करें।